• Sun. Jun 23rd, 2024

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाहजहांपुर और स्वामी शुकदेवानंद लॉ कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में विश्व श्रमिक दिवस पर विधिक साक्षरता शिविर आयोजित

Bytennewsone.com

May 2, 2024
17 Views

 जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाहजहांपुर और स्वामी शुकदेवानंद लॉ कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में विश्व श्रमिक दिवस पर विधिक साक्षरता शिविर आयोजित



टेन न्यूज़ !! 02 मई २०२४ !! डीपी सिंह डेस्क न्यूज़@शाहजहांपुर


जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाहजहांपुर और स्वामी शुकदेवानंद लॉ कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में विश्व श्रमिक दिवस पर एक विधिक साक्षरता शिविर आयोजित किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में श्री पियूष तिवारी(ADJ) सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री ओम प्रकाश, श्रम प्रवर्तन अधिकारी, शाहजहांपुर के साथ साथ महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. जय शंकर ओझा, संयोजक डॉ. अनिल कुमार शाह, विशिष्ट अतिथि ग्राम पंचायत सचिव सुश्री शीतल चौहान, रौरा ग्राम प्रधान श्री इंद्रपाल उपस्थित रहें। इस अवसर पर विद्यार्थियों ने एक नाटक का मंचन के माध्यम से मजदूरों को नशा से दूर रहने और उनके बच्चों को पढ़ाने के लिए प्रेरित किया।

कार्यक्रम की शुरुआत नालसा गीत से हुई। फिर महाविद्यालय के लीगल एड क्लिनिक के वालंटियर्स सूबेदार मे. मृदुल कुमार मिश्रा, वंशदीप सिंह, अमिता पाल, दीक्षा शर्मा, सुधीर कुमार, शिवम, शैलेंद्र सिंह, अनूप, सोमजीतसिंह, शशांक दीक्षित, हिमांशु सिंह, यशी पटेल, काजल सक्सेना, सौम्या सिंह, गगन अवस्थी, सारिका खान, राम मोहन ने ग्रामवासियों को श्रम अधिकारों के साथ साथ शिक्षा, महिला अधिकारों और यौन उत्पीड़न बारे में जागरूक किया।

डॉ. अनिल कुमार शाह ने विषय प्रवर्तन कर अतिथियों का परिचय एवं स्वागत किया और बताया कि यह दिन मजदूरों द्वारा किये गये योगदान का प्रतीक है। वे हमारे जीवन को आरामदायक बनाने के लिए दिन-रात मेहनत करते हैं। जो खाना हम खाते हैं, जो कपड़े हम पहनते हैं, ये सभी चीजें श्रमिकों की कड़ी मेहनत से संभव हुई हैं जो लंबे समय तक काम करते हैं, चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करते हैं और हमारे समुदायों के लाभ के लिए अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा को दांव पर लगाते हैं।

मुख्य अतिथि श्री पियूष तिवारी जी ने श्रम पंजीयन पर प्रकाश डाला और कहा कि आज कठिन से कठिन जानकारी मोबाइल और इंटरनेट के माध्यम से उपलब्ध है फिर भी लोग इन सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पाते। श्रम विधि सबसे उबाऊ विषय होता था और शायद ही कोई विद्यार्थी उसको चाव से पढ़ता हो। यही वजह है जो आज श्रम के काफी कम मामले देखने को मिलते हैं। मजदूर दिवस सिर्फ श्रमिकों की गरिमा और मूल्य को पहचानने और यह सुनिश्चित करने के बारे में है कि उनके साथ सम्मान और निष्पक्षता से व्यवहार किया जाए।

यह इस बात को सुनिश्चित करने के बारे में है कि श्रमिकों को सुरक्षित कामकाजी परिस्थितियां, उचित वेतन और अपने हितों की रक्षा के लिए यूनियन बनाने का अधिकार मिले। आइए हम दुनिया को सभी श्रमिकों के लिए एक बेहतर जगह बनाने के लिए प्रतिबद्ध हों। साथ ही उन्होंने विधिक सेवा प्राधिकरण की कार्यप्रणाली की जानकारी दी और लोगो को उत्साहित किया।

विशिष्ट अतिथि श्री ओम प्रकाश जी ने विभिन्न श्रमिक विधियों जैसे: कारखाना अधिनियम, कर्मचारी प्रतिकार अधिनियम, व्यवसाय संघ अधिनियम, न्यूनतम मजदूरी अधिनियम आदि के बारे में जानकारी दी। श्रम कार्ड के पंजीयन के बाद योजनाएं जैसे मातृत्व हित लाभ योजना, शिशु हित लाभ योजना (बच्चे के पैदा होने पर अनुदान मिलता है), बाल हित लाभ योजना के बारे में जानकारी दी। बालिका विवाह मदद योजना जिसके अंतर्गत 55000 का अनुदान श्रम विभाग से मिलता है।

तत्पश्चात महाविद्यालय के प्राध्यापक श्री मृदुल शुक्ला ने श्रमिक दिवस पर प्रकाश डाला और बताया कि अमेरिका में मजदूर दिवस मनाने का प्रस्ताव 1 मई 1889 को लागू हो गया लेकिन भारत में 1 मई को मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत इसके लगभग 34 साल बाद हुई। विशिष्ट अतिथि ग्राम पंचायत सचिव सुश्री शीतल चौहान ने जन्म प्रमाण पत्र की आवश्यकता और प्रक्रिया पर जोर दिया।

महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. जयशंकर ओझा ने अतिथियों और उपस्थित ग्राम वासियों का आभार व्यक्त किया और कहा कि शोषण और दुर्व्यवहार से लेकर, लंबे समय तक काम करने और कम वेतन तक, अपर्याप्त स्वास्थ्य और सुरक्षा नियमों तक, अभी भी कई चुनौतियां हैं जिनका श्रमिकों को सामना करना पड़ता है और जिम्मेदार नागरिक और समाज के सदस्य के रूप में यह हम पर निर्भर है कि हम सभी श्रमिकों के अधिकारों और सम्मान के लिए लड़ें, और यह सुनिश्चित करें कि उनके साथ निष्पक्ष और उचित व्यवहार किया जाए। मंच संचालन लोक अदालत के लिपिक मोहम्मद अफजल और महाविद्यालय के छात्र वंशदीप सिंह द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।

कार्यक्रम का आयोजन स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय के लीगल एड क्लिनिक के 20 वॉलंटियर्स और संयोजक डॉ. अनिल कुमार शाह के द्वारा किया गया। कार्यक्रम के आयोजन में रौरा ग्राम प्रधान श्री इंद्रपाल का विशेष योगदान रहा। शिविर में लगभग 100 श्रोता उपस्थित रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *